आज कल के बच्चे कम नंबर आने पर आत्महत्या कर लेते है

आज कल के बच्चे कम नंबर आने पर आत्महत्या कर लेते है ,

ओर

हमारे नंबर देख के मास्टरसाहब की इच्छा होती थी मरने की।

No comments:

Post a Comment